Close

जनवरी-मार्च तिमाही में आईपीओ बाजार रहेगा गुलजार, इन कंपनियों में पैसा लगाने और कमाई का मिलेगा मौका

साल 2021 आईपीओ (IPO) बाजार के लिए धमाकेदार साबित हुआ है और इस दौरान करीब 1.2 लाख करोड़ रुपये Initial Public Offer (Initial Public Offer) से जुटा लिए गए हैं. कुल 63 कंपनियों ने 2021 में करीब सवा लाख करोड़ रुपये जुटाकर ये साबित कर दिया कि आईपीओ को लेकर निवेशकों का सेंटीमेंट अच्छा है और वो जमकर पैसा लगाने को भी तैयार है. अब मर्चेंट बैंकरों ने रविवार को जानकारी दी है कि वित्त वर्ष 2021-22 की आखिरी तिमाही यानी जनवरी-मार्च में भी करीब 24 कंपनियां 44,000 करोड़ रुपये जुटाने की योजना लेकर आ रही हैं.

इन बड़ी कंपनियों के आने वाले हैं IPO

देश का सबसे बड़ा आईपीओ एलआईसी का होगा जो इसी जनवरी-मार्च तिमाही के दौरान आने वाला है. निवेशकों में इसको लेकर काफी उत्सुकता है.

गौतम अडानी की कंपनी अडानी विल्मर का आईपीओ इसी जनवरी में आने की संभावना है. अडानी विल्मर का आईपीओ करीब 4500 करोड़ रुपये का होने वाला है और अडानी विल्मरस अडानी समूह की सातवीं कंपनी होगी जो बाजार में लिस्ट होगी.

इसके अलावा गो एयरलाइन्स काआईपीओ भी जनवरी-मार्च तिमाही में आएगा.

मोबिक्विक का आईपीओ भी इसी महीने यानी जनवरी में आने की उम्मीद जताई जा रही है.

ट्रैक्सन टेक्नोलॉजीज़ का आईपीओ भी जल्द ही आएगा.

स्कैनरे टेक्नोलॉजिज, हेल्थियम मेडटेक और सहजानंद मेडिकल टेक्नोलॉजीज भी मार्च तिमाही के दौरान आईपीओ ला सकती हैं.

ओयो और सप्लाई चेन कंपनी डेल्हीवेरी द्वारा आईपीओ के जरिये फंड जुटाने की उम्मीद है.

इनके अलावा एमक्योर फार्मास्युटिकल्स, पारादीप फॉस्फेट्स, वेदांत फैशंस, इक्सिगो और मेदांता के आईपीओ भी जनवरी-मार्च तिमाही में आने की पूरी संभावना है और इसके बारे में और जानकारी जल्द सामने आने वाली हैं.

रुचि सोया का आएगा एफपीओ

इसी जनवरी-मार्च तिमाही में बाबा रामदेव की कंपनी रुचि सोया का एफपीओ यानी फॉलोआन पब्लिक ऑफर आने वाला है. रुचि सोया के प्रमोटर्स की हिस्सेदारी कम करने के लिए 4300 करोड़ रुपये का एफपीओ (FPO) आने वाला है. कंपनी में प्रमोटर्स की हिस्सेदारी 98 फीसदी तक है जिसे घटाकर 75 फीसदी से नीचे लाने के लिए एफपीओ लाया जाएगा.

 

 

यह भी पढ़ें- कहीं आप भी तो नहीं कर रहे नकली पैन कार्ड का इस्तेमाल? इस तरह करें पहचान

0 Comments
scroll to top