Close

ब्रिटेन में प्रचंड गर्मी ने तोड़े पुराने सभी रिकॉर्ड, राष्ट्रीय आपातकाल लागू

भारत में इस वक्त मानसून का समय चल रहा है, लेकिन यूरोप में गर्मी की वजह से बुरा हाल है। वहां तापमान रिकॉर्ड स्तर पर बढ़ रहा है। कई देशों में भीषण लू पड़ने की वजह से लोगों की मौत भी हो गई है। इस वक्त यूरोप गर्मी में बुरी तरह उबल रहा है। स्पेन और फ्रांस में जंगलों में लगी आग ने मुसीबत को और बढ़ा दिया है। ब्रिटेन के हर हिस्से में तापमान ने नए रिकॉर्ड बना लिए हैं। स्पेन में दो लोगों की जंगलों की आग के चलते भी मौत हुई है। स्पेन के प्रधानमंत्री पेड्रो सान्कज ने इस स्थिति को ग्लोबल वार्मिंग से जोड़ा है और कहा है कि अब जलवायु परिवर्तन लोगों की जान ले रहा है।

तापमान बढ़कर 41 डिग्री सेल्सियस तक

ब्रिटेन के दक्षिणी इंग्लैंड में सोमवार को तापमान 38 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया था। ऐसे में कहा जा रहा है कि मंगलवार तक तापमान बढ़कर 41 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है। राष्ट्रीय रेल सेवा ने यात्रियों से कहा है कि गैर जरूरी यात्रा करने से बचें। रेल सेवा उत्तर-पूर्व इंग्लैंड के कई हिस्सों में स्थगित रहेगी।

गर्मी लंबे समय तक रहेगी

यूरोप के इबेरिआ प्रायद्वीप में गर्मी ने सैकड़ों लोगों को मार दिया है। पुर्तगाल से लेकर बालकन्स के जंगलों में लगी आग आने वाले दिनों को और मुश्किल बनाएगी। उत्तरी इटली के कई हिस्सों में सूखे की स्थिति उत्पन्न हो गई है। वैज्ञानिकों के अनुसार, जलवायु परिवर्तन के कारण यह घातक गर्मी अधिक बार आएगी और लंबे समय तक रहेगी।

ब्रिटेन में राष्ट्रीय आपातकाल लागू किया

ब्रिटेन में स्थिति लगातार बिगड़ रही है। यहां सोमवार को अब तक का सबसे गर्म दिन रहने की आशंका के बीच देश में लोगों को घरों के अंदर रहने और गैर-जरूरी यात्रा से बचने की सलाह दी गई है, क्योंकि तापमान यहां पहली बार 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने के करीब है। ब्रिटेन की स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी (यूकेएचएसए) ने राष्ट्रीय आपातकाल लागू किया है और मौसम विज्ञान कार्यालय ने अत्यधिक गर्मी का पहला ‘रेड अलर्ट’ जारी किया है। यह अलर्ट अत्यधिक गर्मी से जीवन के लिए खतरे की चेतावनी है। बुधवार को कुछ बारिश होने के पूर्वानुमान से पहले मंगलवार को लू के चरम पर पहुंचने का अनुमान व्यक्त किया गया है।

मौसम कार्यालय की मुख्य कार्यकारी प्रोफेसर पेनी एंडर्सबी ने कहा, ‘हम ब्रिटेन के इतिहास में सबसे गर्म दिन देख सकते हैं।’ उन्होंने कहा, ‘कल (मंगलवार) तापमान 40 डिग्री सेल्सियस और उससे अधिक रहने की संभावना है, संभावित अनुमान 41 का है। कुछ अनुमानों में यह आंकड़ा 43 का बताया जा रहा है, लेकिन हम उम्मीद कर रहे हैं कि यह उतना गर्म नहीं होगा।’ एंडर्सबी ने कहा, ‘यह तापमान अभूतपूर्व है और हम इससे निपटने के अभ्यस्त नहीं हैं- गर्मी सैकड़ों या हजारों अतिरिक्त मौतों का कारण बनती है, इसलिए लोगों को सलाह का पालन करने की आवश्यकता है।’

ब्रिटेन में इससे पहले सर्वाधिक तापमान 38.7 डिग्री सेल्सियस 2019 में दर्ज किया गया था। डाउनिंग स्ट्रीट ने कहा कि गर्म मौसम को लेकर प्रबंधन करने और किसी भी संभावित नुकसान से बचने के लिए रेलवे की गति पर प्रतिबंधों की आवश्यकता हो सकती है। अत्यधिक गर्मी की वजह से रेल पटरियों, ओवरहेड पावर लाइन और सिग्नल उपकरण प्रभावित हो सकते हैं।

फ्रांस में एक दर्जन से ज्यादा जगहों पर तापमान ने नया रिकॉर्ड बनाया है। मौसम विभाग ने इसे सबसे गर्म दिन बताया है। फ्रांस के ब्रिटनी क्षेत्र में तापमान 39.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग के अनुसार सितंबर 2003 के बाद स्थिति इतनी खराब हो गई है। फ्रांसीसी मौसम विज्ञानी फ्रांस्वा गौरंद ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया कि दक्षिण पश्चिम के कुछ हिस्सों में गर्मी बेहद घाचत होगी।

स्पेन और पुर्तगाल में घातक स्थिति

वहीं स्पेन और पुर्तगाल दोनों ही देशों में स्थिति काफी घातक बनी हुई है। यहां 748 लोगों की मौत हो गई है और इन मौतों के लिए गर्मी को जिम्मेदार बताया जा रहा है। लंदन में गर्मी इतनी बढ़ गई है कि यहां के इंजीनियरों को 135 साल पुराने लंदन ब्रिज को सिल्वर फॉयल से ढंकना पड़ रहा है। अगले कुछ दिनों में लंदन का तापमान रिकॉर्ड तोड़ने की ओर बढ़ रहा है। गर्मियों ने पहले ही हालात खराब कर दिए हैं और बारिश न होने से स्थिति और बिगड़ रही है। इस समय तक स्पेन में बारिश शुरू हो जाती है लेकिन यहां अभी बारिश के कोई संकेत नहीं हैं।

 

यह भी पढ़ें:- नूपुर शर्मा को बड़ी राहत, गिरफ्तारी पर लगी रोक

0 Comments
scroll to top