Close

पाटजात्रा पूजा विधान के साथ एतिहासिक बस्तर दशहरा शुरू

जगदलपुर,  हरियाली अमावस्या के अवसर पर गुरुवार से ऐतिहासिक बस्तर दशहरा की रस्में शुरू हो गई हैं। सुबह 11 बजे मां दंतेश्वरी मंदिर के ठीक सामने दशहरा का विशाल रथ बनाने वाले प्रमुख कारीगर दलपति के सानिध्य में बस्तर दशहरा की पहली रस्म पाटजात्रा संपन्ना हुई। इस अवसर पर शहर की प्रथम नागरिक महापौर सफिरा साहू के साथ दर्जनों मांझी, चालकी, मेंबर- मेंबरीन और जिला प्रशासन के अधिकारी मौजूद रहे। पूजा विधान में शामिल कलेक्टर चंदन कुमार ने कहा कि बस्तर दशहरा उत्साह से मनाएंगे लेकिन कोरोना और शहर में बढ़ रहे डेंगू की समस्या को नजरअंदाज नहीं किया जाएगा।

लकड़ी में सात कीलें ठोक कर पूजा प्रारंभ

बस्तर दशहरा की रस्में लगभग 75 दिनों में पूर्ण होती हैं। पहली रस्म हरियाली अमावस्या के दिन पाटजात्रा के रूप में संपन्न होती है। माचकोट वन परिक्षेत्र अंतर्गत बिलोरी जंगल से काटकर लाए गए साल वृक्ष के गोले की पूजा-अर्चना की जाती है। पारंपरिक पूजा विधान में इसे टूरलू खोटला कहा जाता है। गुरुवार सुबह 11 बजे मां दंतेश्वरी मंदिर के प्रधान पुजारी कृष्ण कुमार पाढ़ी के साथ बस्तर दशहरा का रथ बनाने वाले प्रमुख कारीगर दलपति नाग पाटजात्रा पूजा विधान स्थल पहुंचे। यहां साल लकड़ी में सात कीलें ठोक कर पूजा प्रारंभ की। पूजा के बाद एक बकरा, सात मांगुर मछली, सवाया के रूप में अंडा तथा विभिन्ना देवी-देवताओं का आह्वान करते हुए लाई- चना अर्पित कर महुआ की शराब का तर्पण किया गया। बताया गया कि बस्तर दशहरा के लिए रथ बनाने वाले कारीगर इसी काष्ठ से अपने औजारों का बेंत तैयार करते हैं।

बस्तर दशहरा जन अपेक्षाओं के अनुरूप मनाया जाएगा

टेंपल ईस्टेट कमेटी के अध्यक्ष व कलेक्टर चंदन कुमार ने कहा कि पारंपरिक बस्तर दशहरा जन अपेक्षाओं के अनुरूप ही मनाया जाएगा। इसकी भव्यता और जनभागीदारी के मध्य कोई समस्या नहीं होगी। दशहरा की बकाया राशि के संदर्भ में उन्होंने कहा कि टेंपल कमेटी के अधिकारियों से चर्चा कर तथा धर्मस्व विभाग से संपर्क कर बस्तर दशहरा मनाने पर्याप्त राशि प्राप्त करने की कोशिश करेंगे। बताया गया कि बस्तर दशहरा समिति के अध्यक्ष सांसद दीपक बैज दिल्ली प्रवास पर है। इसलिए वे पाठ जात्रा पूजा विधान में शामिल नहीं हो पाए। इस मौके पर बस्तर दशहरा समिति के उपाध्यक्ष अर्जुन मांझी, एसडीएम ओम प्रकाश वर्मा, तहसीलदार पुष्पराज पात्र, दंतेश्वरी शक्ति पीठ दंतेवाड़ा के जिया विजेंद्र ठाकुर, मुकुंद ठाकुर, टेंपल कमेटी के सदस्य राजीव नारंग, लोहंडीगुड़ा के तहसीलदार अर्जुन श्रीवास्तव, नगर निगम के आयुक्त के अलावा विभिन्ना वार्डों के पार्षद , विभिन्नाा परगना से आए मांझी, चालकी, मेंबर- मेंबरीन आदि मौजूद रहे। बस्तर दशहरा की दूसरी रस्म डेरी गड़ाई पूजा विधान आगामी आठ सितंबर गुरुवार को सुबह 11 बजे सिरासार भवन में संपन्ना होगी।
0 Comments
scroll to top