Close

नवरात्रि 2021: किस राशि वाले को मां के किस रूप की करनी चाहिए पूजा, जानें क्या मिलता है लाभ?

शारदीय नवरात्रि का आरंभ 07 अक्टूबर से हो गया है. नवरात्रि में मां के 9 स्वरूपों की पूजा का अलग-अलग महत्व बताया गया है. मां के किस स्वरूप की पूजा –अर्चना किस राशि वाले के उत्तम होगी. यहां से जानिए. धार्मिक मान्यता है कि अपनी राशि के अनुसार मां के स्वरूप की उपासना करें तो आपकी मनोकामना जल्द पूरी होगी.

राशि के अनुसार करें मां के इस स्वरूप की पूजा

मेष राशिमेष राशि के जातकों को मां दुर्गा के प्रथम स्वरूप मां शैलपुत्री की पूजा करनी चाहिए. मान्यता के अनुसार, इनकी पूजा करने से सभी मनोकामना जल्द पूरी होगी.   

वृष राशिवृष राशि वालों को मां के दूसरे स्वरूप मां ब्रह्मचारिणी की उपासना करना उतम होता है. इन्हें माह की हर नवमी को व्रत रखकर इनकी पूजा करनी चाहिए.

मिथुन राशि:  इस राशि के लोगों को मां दुर्गा के चन्द्रघण्टा स्वरुप की पूजा अर्चना करनी चाहिए. मान्यता है कि व्रत रखकर इनकी पूजा करने से संकट दूर होते हैं.

कर्क राशिइन्हें माता सिद्धिदात्री की उपासना -आराधना करनी चाहिए. सभी मनोकामनाएं पूर्ण होने की मान्यता है.

सिंह राशिइस राशि वालों को मां कालरात्रि की पूजा करना उत्तम होता है.

कन्या राशिइस राशि के जातकको नवरात्रि में मां चन्द्रघण्टा की पूजा सबसे अधिक उपयोगी होगी. मां सभी दुख दूर करेंगी.

तुला राशिनवरात्रि में इनको मां ब्रह्मचारिणी की आराधना करनी चाहिए. मां ब्रह्मचारिणी की कृपा से जीवन सुखी रहेगा.

वृश्चिक राशिइस राशि के जातकों द्वारा मां दुर्गा के शैलपुत्री स्वरुप की आराधना से मां विशेष कृपा प्राप्त होती है.

धनु राशि:  इन्हें नवरात्रि में व्रत रखकर मां सिद्धिदात्री की पूजा करनी चाहिए.   

मकर राशिमकर राशि वाले मां सिद्धिदात्री के सा​थ मां काली की पूजा करें उत्तम फल की प्राप्ति होगी.

कुंभ राशिइन राशि वालों केलिए भी मकर राशि वालों की तरह ही मां सिद्धिदात्री और मां काली की पूजा श्रेष्ठ व उत्तम होगी. नवरात्रि में इनकी पूजा अर्चना से संकट दूर होंगे और जीवन खुशहाल होगा.

मीन राशि:  इन जातकों के लिए भी मां सिद्धिदात्री की पूजा उत्तम होगी.

 

 

यह भी पढ़ें- दिवाली के बाद स्कूल खुलने पर संशय बरकरार, ऑनलाइन क्लास बंद नहीं होंगे

0 Comments
scroll to top