Close

पीने से पहले जान लें बादाम के दूध के साइड इफेक्ट्स

बादाम खाने के अनगिनत फायदे हैं और ये नट्स (Nuts) में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला है. वजन में कमी से लेकर हड्डी की सेहत, मूड ठीक करने, दिल की बीमारी, कैंसर और डायबिटीज का जोखिम कम करने तक में फायदे का दावा किया जाता है. बादाम में शरीर के लिए जरूरी फाइबर, प्रोटीन, विटामिन ई, मैग्नीशियम, मैग्नीज, कॉपर, फॉस्फोरस की शानदार मात्रा पाई जाती है. उसका पाबंदी से सेवन करने पर सेहत की जमानत दी जाती है. बावजूद इसके उसमें साइड इफेक्ट्स का भी कुछ हिस्सा है.

बादाम से बना दूध बेहद हेल्दी समझा जाता है. डेयरी दूध से अलग बादाम का दूध सबसे लोकप्रिय है. बादाम को पोषण का खजाना समझकर लोग उसकी तरफ रुख कर रहे हैं. ये पीने में न सिर्फ स्वादिष्ट है बल्कि कैलोरी, कार्बोहाइड्रेट्स और फैट में कम है. उससे जुड़े कई फायदों के साथ कुछ कमियां भी हैं, विशेषकर जब आप उसका ज्यादा इस्तेमाल करते हैं और आपको उससे एलर्जी भी है

बादाम दूध के साइड इफेक्ट्स

पेट की परेशानी- ज्यादा बादाम पाचन की समस्या जैसे मतली, पेट की असुविधा, पेचिश का कारण बन सकता है. ये आपकी दवाइयों के साथ हस्तक्षेप कर सकता है और उसके नतीजे में कुछ लोगों को पेट और आंतों से संबंधित गंभीर प्रतिक्रिया हो सकती है.

थॉयराइड पर प्रभाव- बादाम को एक गोइट्रोजेनिक फूड माना जाता है यानी उसमें बहुत ज्यादा मात्रा में खाने पर थॉयरायड को नुकसान पहुंचाने वाले केमिकल्स पाए जाते हैं. थॉयरायड के फंक्शन में कमी पर चाहिए कि बादाम का दूध पीने से बचें या उसकी कम मात्रा इस्तेमाल करें.

शिशुओं के साथ समस्या- शिशुओं के लिए दूध का सबसे अच्छा प्रकार बादाम का दूध नहीं है. उसमें मासूम के लिए पोषण की सही मात्रा नहीं पाई जाती है और उसे ब्रेस्ट या फार्मूला मिल्क की जगह नहीं रखना चाहिए. कुल मिलाकर, बादाम का दूध हेल्दी है लेकिन उसके खास साइड इफेक्ट्स को देखते हुए सावधान रहना ही अच्छा है.

 

 

यह भी पढ़ें- किसान विकास पत्र: केंद्र सरकार की इस स्कीम में दोगुना हो जाएगा आपका पैसा, 5 लाख बन जाएंगे 10 लाख, जानें कैसे?

0 Comments
scroll to top