Close

कोरोना की तरह तेजी से फैल रहा मंकीपॉक्स वायरस, दुनिया के 20 देश जद में आए, भारत ने उठाए ये कदम

दुनिया अभी कोरोना वायरस (Corona Virus) के प्रकोप से जद्दोजहत के बीच एक नया वायरस लोगों को बीमार करने आ गया है. दुनिया के कई देशों में मंकीपॉक्स वायरस (Monkeypox Virus) से खलबली मची हुई है क्योंकि ये वायरस अब तेजी से फैल रहा है. मंकीपॉक्स (Monkeypox) एक पुराना वायरस (Old Virus) है लेकिन कुछ दिनों पहले इसका पहला मामला मिलने के बाद ये दुनिया में तेजी से फैल रहा है. वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) की अगर मानें तो ये दुनिया के 20 देशों में फैल चुका है और 200 लोगों को अपनी चपेट में ले चुका है. इनमें से 106 मामले ऐसे हैं जो संदिग्ध (Serious) हैं. इन सभी चीजों के बीच राहत भरी खबर ये है कि भारत (Monkeypox In India) में इस वायरस का कोई मामला नहीं है और पूरी सतर्कता बरती जा रही है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि जिस भी देश में मंकीपॉक्स वायरस के मामले मिले हैं उसने अपना स्वरूप नहीं बदला है. कहने का मतलब ये है कि जिन देशों में इस वायरस की उत्पत्ति हुई उन देशों और जहां ये वायरस फैला उन देशों में समान पाया गया है. इसके स्वरूप में कोई बदलाव नहीं पाया गया है. डब्ल्यूएचओ ने उन देशों को बचाव के लिए तत्काल कदम उठाने की सख्त हिदायत दी जिनमें ये वायरस नहीं फैला है.

कोरोना की तरह फैलता ये वायरस

डब्ल्यूएचओ में वैश्विक संक्रमण खतरों से निपटने के लिए बनाए गए कार्यदल की निदेशक सिल्वी ब्रायंड ने बताया कि हमारे पास मंकीपॉक्स को फैलने से रोकने का मौका है. अगर सही जगहों पर सही उपाय करें तो इसे स्थानीय स्तर पर ही रोका जा सकता है. उन्होंने कहा कि ये वायरस कोरोना वायरस की तरह फैल सकता है, हालांकि उन्होंने ये भी कहा है कि उसके मुकाबले कम तेजी से फैलता है. अभी व्यापक स्तर पर टीके लगाने की जरूरत नहीं है लेकिन संक्रमण वाली जगहों पर टीकाकरण किया जाना चाहिए. डब्ल्यूएचओ में चेचक सचिवालय के प्रमुख रोजमंड लेविस ने कहा कि संक्रमितों की जांच, उनके संपर्कों की निगरानी और होम आइसोलेशन जैसे उपाय इस बीमारी में भी सर्वाधिक प्रभावी होंगे.

 

 

यह भी पढ़ें- राजकोट में बोले पीएम मोदी – पिछले 8 साल में सिर झुकने का मौका नहीं दिया, बन रहा है बापू के सपनों का भारत

0 Comments
scroll to top