Close

क्या होता है क्रेडिट यूटिलाइजेशन रेशियो, आपके क्रेडिट स्कोर को यह कैसे करता है प्रभावित

यह तो सभी जानते हैं कि क्रेडिट स्कोर लोन दिलाने में सबसे अहम भूमिका निभाता है. जिनका क्रेडिट स्कोर खराब होता है उन्हें लोन मिलने में दिक्कत होती है. लेकिन फिर भी क्रेडिट स्कोर से जुड़ी कुछ बातें हैं जिन्हें कम ही लोग जानते हैं. जैसे कि क्रेडिट स्कोर की गणना किस आधार पर की जाती है या फिर क्रेडिट यूटिलाइजेशन रेशियो किसे कहते हैं. आज हम आपको क्रेडिट स्कोर से जुड़ी कुछ ऐसी ही बातों के बारे में बताएंगे.

इतना होना चाहिए आपका क्रेडिट स्कोर

  • सबसे पहले यह जान लें कि क्रेडिट स्कोर 300 से 900 के बीच होता है.
  • आमतौर पर 750 से अधिक क्रेडिट स्कोर को अच्छा माना जाता है.
  • जिनका क्रेडिट स्कोर ज्यादा होता है उन्हें लोन मिलने की संभावना भी अधिक होती है.

क्रेडिट ब्यूरो रखते हैं आपका हर रिकॉर्ड

  • ग्राहकों का क्रेडिट स्कोर कई क्रेडिट ब्यूरो तय करते हैं.
  • प्रमुख क्रेडिट ब्यूरो में ट्रांस यूनियन सिबिल एक्सपेरियन, सीआरआईएफ हाई मार्क और इक्विफैक्स शामिल हैं.
  • ये क्रेडिट ब्यूरो आपके हर महीने का बिल और लोन की किश्त चुकाने का रिकॉर्ड रखते हैं.
  • कुछ सालों के रिकॉर्ड के आधार पर वह आपके क्रेडिट स्कोर की गणना करते हैं.

क्रेडिट यूटिलाइजेशन रेशियो

  • क्रेडिट यूटिलाइजेशन रेशियो यानी CUR का मतलब है कि आपके क्रेडिट कार्ड की जो क्रेडिट लिमिट है, उसका एक महीने में आप कितना इस्तेमाल करते हैं.
  • क्रेडिट स्कोर पर CUR का बहुत प्रभाव पड़ता है. आपका CUR इस बात पर निर्भर करता है कि आप अपने क्रेडिट कार्ड का कितना इस्तेमाल करते हैं.
  • जितना अधिक आप क्रेडिट कार्ड का उपयोग करेंगे उतना ज्यादा आपका CUR होगा.
  • अच्छे क्रेडिट स्कोर लिए हमेशा सलाह दी जाती है कि क्रेडिट उपयोग रेशियो 30% से कम ही रखना चाहिए. इससे यह संकेत मिलता है कि आप क्रेडिट कार्ड पर ज्यादा निर्भर नहीं हैं. वहीं अगर आपका क्रेडिट उपयोग रेशियो 50% से ज्यादा है तो लोन देने वाली कंपनी आपको जोखिम वाले ग्राहक के रूप में देखेगी.

पुराना क्रेडिट कार्ड होना फायदे की बात

  • आपके लोन का काफी पुराना होना या कई सालों से क्रेडिट कार्ड इस्तेमाल करना क्रेडिट स्कोर के लिहाज से अच्छा माना जाता है.
  • दरअसल, इससे पता चलता है कि आप लोन का सही इस्तेमाल करते हैं. आप समय पर उसकी किस्त चुकाते हैं.

बार-बार न करें आवेदन

  • लोन या क्रेडिट कार्ड के लिए बार-बार आवेदन न करें.
  • क्रेडिट स्कोर के लिहाज से यह अच्छा नहीं माना जाता है. इससे क्रेडिट स्कोर में कमी आती है.

लोन का पेमेंट सही समय पर करें

  • आप लोन की ईएमआई नियमित रूप से चुकाएं और इसमें न चूकें.
  • अगर आप एक बार देर से पेमेंट करते हैं या डिफॉल्ट करते हैं तो इससे क्रेडिट स्कोर 100 अंक तक घट सकता है.

 

 

यह भी पढ़ें- मल्टी-कैप फंड्स में बढ़ रही है निवेशकों की दिलचस्पी, ये हैं शानदार रिटर्न देने वाली 3 स्कीमें

0 Comments
scroll to top