Close

पहले नवरात्रि के दिन पढ़ें मां शैलपुत्री की कथा, सुख-समृद्धि का होगा आगमन

नवरात्रि के पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है. मां शैलपुत्री हिमालयराज की पुत्री हैं. शैल का मतलब होता है पत्थर या पहाड़. नवरात्रि के पहले दिन शैलपुत्री की पूजा इसलिए की जाती है, ताकि जीवन में उनके नाम की तरह स्थिरता बनी रहे. जीवन में अडिग रहकर अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकें. नवरात्रि के पहले दिन कलश स्थापना के बाद मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है. दुर्गासप्तशती का पाठ किया जाता है. बता दें कि पुराणों में कलश को भगवान गणेश का स्वरुप माना गया है इसलिए नवरात्रि में पहले कलश पूजा की जाती है.

मां शैलपुत्री कथा (Navratri Maa Shailputri Katha)

नवरात्रि के पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा विधि-विधान के साथ की जाती है. मां का वाहन वृषभ (बैल) है. मां शैलपुत्री को हिमालयराज पर्वत की बेटी कहा जाता है. इसके पीछे एक पौराणिक कथा है, एक बार प्रजापति दक्ष (सती के पिता) ने यज्ञ के दौरान सभी देवताओं को आमंत्रित किया. उन्होंने भगवान शिव और सती को निमंत्रण नहीं भेजा. लेकिन सती बिना निमंत्रण भी यज्ञ में जाने को तैयार थी. ऐसे में भगवान शिव ने उन्हें समझाया कि बिना निमंत्रण यज्ञ में जाना ठीक नहीं. लेकिन सती नहीं मानी तो भगवान शिव ने उन्हें जाने की इजाजत दे दी.

सती पिता के यहां बिना निमंत्रण पहुंच गई और उन्हें वहां बिना बुलाए मेहमान वाला व्यवहार ही झेलना पड़ा. उनकी माता के अलावा सती से किसी ने भी सही से बात नहीं की. बहनें भी यज्ञ में उपहास उड़ाती रहीं. इस तरह का कठोर व्यवहार  और अपने पति का अपमान वे बर्दाश नहीं कर सकीं और क्रोधित हो गईं. और इसी क्षोभ, ग्लानि और क्रोध में आकर उन्होंने खुद को यज्ञ में भस्म कर दिया. जैसे ही ये समाचार भगवान शिव को मिला उन्होंने अपने गणों को दक्ष के भेजा और उनके यहां चल रहा यज्ञ विध्वंस करा दिया. अगले जन्म में उन्होंने हिमालय की पुत्री के रूप में जन्म लिया इन्हें उन्हें शैलपुत्री कहा जाता है. और नवरात्रि के पहले दिन शैलपुत्री मां की पूजा की जाती है.

 

 

यह भी पढ़ें- सर्दियों में खुद की बेहतर करना चाहते हैं देखभाल, दूध में इन चार चीजों को मिलाकर करें इस्तेमाल

0 Comments
scroll to top